Home विशेष farmkart ले किसान मन ल मिलथे साढ़े सात सौ ले जियादा उत्पाद...

farmkart ले किसान मन ल मिलथे साढ़े सात सौ ले जियादा उत्पाद के जानकारी, आनलाइन घलो मंगा सकथे

45
0

जय जोहार…. देश के किसान मन ल आधुनिक तकनीक ले खेती के उत्तम उत्पाद अऊ सेवा ल उपलब्ध करवाय के उद्देश्य ले बड़वानी के उद्यमी अतुल पाटीदार ह एक स्टार्टअप फार्मकार्ट (farmkart) ल सुरू करे हे। ए कंपनी ह प्रदेश के 40 हजार किसान मन ल खेती के उत्पाद अऊ सेवा के संगेसंग जानकारी घलो आनलाइन उपलब्ध करवात हे।

बड़वानी म करीब डेढ़ सौ किलोमीटर के दायरे म अवइया ग्राव म घलो ए कंपनी ह अपन सेवा देवत हे। ये भारत के पहिला एग्रीटेक स्टार्टअप हे, जेखर हेड आफिस ह बड़वानी म हे। एखर एक ब्रांच आफिस टोरंटो (कनाडा) म घलो हे।

लॉकडाउन के बेरा म जिहां एक ओर देश म सब्बो गतिविधि ह रूके रहिस। ऊचे फार्मकार्ट ह ए अवधि म घलो मध्यप्रदेश के 350 ले जियादा स्थान म किसान मन ल छह हजार एग्री पेकेट डिलीवर करिस।  जेमा कपास अऊ सब्जी के बीज घलो शामिल रहिस।
फार्मकार्ट (farmkart) के संस्थापक अऊ सीईओ अतुल पाटीदार ह बताइस कि हमर मन के उद्देश्य ह जियादा ले जियादा किसान मन ल बिना कोनो असुविधा के बेहतर उत्पाद अऊ सेवा ल उपलब्ध करवाना हे।

हमर मन के ई-कामर्स प्लेटफार्म के मदद ले राज्य के 750 लोकेशन म करीब 40 हजार किसान मन ह हमर मन ले इनपुट ले सकथे। ए एग्री इनपुट म यारा, बीएएसएफ अऊ रिचफील्ड जइसे राष्ट्रीय अऊ अंतरराष्ट्रीय स्तर के नामी कंपनी के बीज, फर्टिलाइजर अऊ पेस्टिसाइड शामिल हे। ह मन ह अभी सात सौ ले जियादा उत्पाद ल किसान मन ल मुहैया करवात हन।

ए  फार्मकार्ट (farmkart) ल सुरू करे के पहिले फार्मकार्ट के टीम ह प्रदेश के छह जार किसान मन म सर्वे करे रहिस। एमा पाय हे कि किसान ह तकनीक के अभाव म आनलाइन चीज खरीदे अऊ पेमेंट करे म हिचकिचात हे।

ए समस्या ल दूर करे बर फार्मकार्ट ह किसान बर एक यूनिक आईडेंटिफिकेशन कोड यानी यूआईसी तैयार करिन।नौ अंक के कोड ले किसान ह आसानी ले खरीदी कर सकत हे, क्योंकि ये कोड उत्पाद ल खरीदे के आदत, खेत के मिट्‌टी के प्रकार समेत आन जानकारी के आधार म खरीदी म ओखर मदद करत हे।

पाटीदार के अनुसार यूआईसी ले किसान ह हमर मन के वेबसाइट www.farmkart.com ले आसानी ले खरीदारी कर सकत हे। क्योंकि किसान मन ल पता, डिलीवरी समय या कोना आन प्राथमिकता के जानकारी नई देना होवत हे। संगेसंग ये ऑनलाइन भुगतान ह घलो आसान बनत हे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.